Animal Feed Supplement Lapsin-Powder---For-Cure-and-Prevention-of-vaginal-and-uterine-prolapse

लेपसिन पाउडर – योनि और गर्भाशय आगे को बढ़ाव की रोकथाम के लिए

लेपसिन पाउडर योनि और गर्भाशय आगे को बढ़ाव की रोकथाम के लिए…………..एक आम समस्या का आसान समाधान ! ✔️ लिगामेंट्स को मजबूत करता है ! ✔️ गर्भाशय के मांसलता को सपोर्ट देता है ! ✔️ प्रैग्नेंसी को सुरक्षित बनाता है ! ✔️ पशु की गर्भाशय को पीछे धकेलने की प्रवृत्ति को   ीक करता है !…

Read article
Animal Feed Supplement farmer with buffalo and cows giving bovifur powder

बोविफर पाउडर – पाचन और दूध उत्पादन में सुधार करने के लिए

बोविफर पाउडर : प्रोबायोटिक बायपास वसा, प्रोटिन, पाचन एंजाइम और साइप्रोहेप्टाडिन के साथ पाचन और दूध उत्पादन में सुधार करने के लिए !फायदा (Advantage) :✔️ भूख बढ़ाने, बदहजमी ठीक करने के लिए !✔️ इम्पैकशन (बंधा) ठीक करने के लिए !✔️ दूध में फैट की मात्रा बढ़ाने के लिए !✔️ चाट- बाखर बाटा न खाने पर देने के लिए !

Read article
Animal Feed SupplementLiver Tonic Hipaliv-Liver-tonic-for-animals-Cover-

हिपालीव प्लस (लिक्विड) : लीवर के स्वास्थ्य तथा बेहतर पाचन के लिए !

हिपालीव प्लस (लिक्विड) : लीवर के स्वास्थ्य तथा बेहतर पाचन के लिए ! हिपालीव प्लस पशुओं की निम्न समस्याओं को मिटाने के लिए दे सकते है :- * पशु का लीवर ठीक करने के लिए ! * पशु की भूख बढ़ाने के लिए ! * पशु की कमजोरी ख़त्म करने के लिए ! * पशु की…

Read article
Veterinary Medicine world rabies day

Dog Care Medicines

    World #Rabies Day 2020 “End Rabies: Collaborate, Vaccinate” -Phoenix Life Science PVT LTD takes care to all of you pets including dog care medicines. Our Dogs Pet Care Medicine includes ♦ Ascorvet Injection – A potent Antioxident & Immunomodulator  ♦L-Cin injection -Potent Antibacterial,Skin and soft tissue infections ♦Cefnix Tazo    ✔️ मोबाइल नंबर…

Read article
Animal Feed SupplementDewormerDewormer हेल्मीसाइड – DS – पशुओं में कीड़ों के प्रकोप का उपचार व बचाव

हेल्मीसाइड – DS – पशुओं में कीड़ों के प्रकोप का उपचार व बचाव

हेल्मीसाइड – DS पशुओं में कीड़ों के प्रकोप का उपचार व बचाव :- पशुओं में कृमि प्रकोप का उपचार वैसी दवा से करना बेहतर होता है जो हर प्रकार के कीड़ों  को नष्ट कर सके ! क्योंकि गाँव में यह पता लगाना मुमकिन नहीं है की पशु में किस प्रकार के कृमि का प्रकोप है !…

Read article